Skip Navigation Links




  1. प्रेरितों के काम पुस्तक की एक रूपरेखा (अध्याय 1-28)
  2. अब तक की लिखी जाने वाली श्रेष्ठतम श्रृंखला (1:1, 2)
  3. यह सब किसके बारे में है? (1:8)
  4. अन्तिम तैयारी (1:1-11)
  5. यरूशलम में प्रतीक्षा करना (1:12-26)
  6. "यरूशलम से लेकर" (2:1-13)
  7. सुसमाचार प्रचार का भरपूरी से आरम्भ (2:14-36)
  8. तीन हज़ार का उद्धार कैसे हुआ! (2:37-41, 47)
  9. वह कलीसिया जिसका सदस्य बनना मैं प्रिय जानूंगा (2:42-47)
  10. चंगाई की एक घटना (3:1-11)
  11. "उसी के नाम से" (3:12-26)
  12. जब शैतान मुश्किल में डाल दे (4:1-7)
  13. अपने बारे में भूल जाओ (4:8-14)
  14. शैतान के साथ क्या करें, क्या न करें (4:15-31)
  15. चेतावनी! आगे छिपी चट्टानें हैं! (4:32-5:14)
  16. जब मनुष्य "न" और परमेश्वर "हां" कहता है (5:12-42)
  17. मसीही लोग तथा सरकार (5:12-42)
  18. शब्दावली: भाग एक
  19. प्रेरितों के काम की पुस्तक का कालानुक्रम